Monday, July 16, 2018

Kadam Song Lyrics Karwaan 2018 | Irfan Khan Dulquer Mithila

W3Schools
kadam-song-lyrics-from-movie-karwaan-2018-irfan-khan-dulquer-mithila
Kadam (कदम) Song Lyrics From Movie Karwaan 2018

Kadam (कदम) Song Ka Lyrics From The Movie Karwaan 2018 Starring Irfan Khan, Dulquer Salmaan & Mithila Palkar. Kadam (कदम) Song Sung By Prateek Kuhad. Music And Lyrics Written By Prateek Kuhad. Kadam (कदम) Song Lyrics In Hindi & English.


Song Information


Song Name Kadam (कदम)
Movie Name Karwaan 2018
Singer Name Prateek Kuhad
Lyrics By Prateek Kuhad
Music Prateek Kuhad
Starring Irfan Khan, Dulquer Salmaan
& Mithila Palkar
Music Label T-Series

English Lyrics


Main kadam kadam
Badalta hoon yanhi
Ye zindgi baldalti hi nahi
Hai lafzon ki kami..

Main idhar udhar fisalta hi raha
Ye man kabhi sambhalta hi nahi
Hoon yaadon mein chupa
Ye shaam kaise rang si hai
Uddti utarati patang si hai
Main kal ki raahon mein hoon pasaa
Ye waqt bhi mujhe bhulaa gaya...

Main ghadi ghadi bekhabar hi tha
Kya raaj mere dil mein hai chupaa
Hai naam kya mera?..

Kyun? sawalon ki lahar mujhe mili
Main ghul gay samya ki aag thi
Ye nazmein bhi ghul gaye..

Ye raastein kyun alag se hain
Likhate tahalte kalam se hain
Main kal ki saanson mein hoon chupa
Ye waqt bhi mujhe bhulaa gaya...

Ye shaam kaise rang si hai
Uddti utarati patang si hai
Main kal ki raahon mein hoon pasaa
Ye waqt bhi mujhe bhulaa...

Ye raastein kyun alag se hain
Likhate tahalte kalam se hain
Main kal ki saanson mein hoon chupa
Ye waqt bhi mujhe bhulaa gaya...
Ye waqt bhi mujhe bhulaa gaya...

More Songs From Karwaan
Saansein (सांसें) Song Lyrics
Dhai Kilo Bakwaas (ढाई किलो बकवास) Song Lyrics

Hindi Lyrics


मैं कदम कदम
बदलता हूँ यही
ये ज़िंदगी बलदालती ही नहीं
है लफ़्ज़ों की कमी..

मैं इधर उधर फिसलता ही रहा
ये मन कभी संभालता ही नहीं
हूँ यादों में छुपा
ये शाम कैसे रंग सी है
उड़ती उतरती पतंग सी है
मैं कल की राहों में हूँ पैसा
ये वक़्त भी मुझे भुला गया...

मैं घडी घडी बेखबर ही था
क्या राज मेरे दिल में है छुपा
है नाम क्या मेरा?..

क्यों? सवालों की लहार मुझे मिली
मैं घुल गए समय की आग थी
ये नज़्में भी घुल गए..

ये रास्तें क्यों अलग से हैं
लिखते टहलते कलम से हैं
मैं कल की साँसों में हूँ छुपा
ये वक़्त भी मुझे भुला गया...

ये शाम कैसे रंग सी है
उड़ती उतरती पतंग सी है
मैं कल की राहों में हूँ पैसा
ये वक़्त भी मुझे भुला...

ये रास्तें क्यों अलग से हैं
लिखते टहलते कलम से हैं
मैं कल की साँसों में हूँ छुपा
ये वक़्त भी मुझे भुला गया...
ये वक़्त भी मुझे भुला गया...


Improve Us: If you find any mistake in this lyrics please comments. Thank You